इस वर्ष के समापन के साथ ही हिन्दी ब्लॉग जगत नए दशक मे प्रवेश कर जाएगा, इसलिए परिकल्पना समूह के द्वारा यह निर्णय लिया गया है कि परिकल्पना सम्मान के साथ दशक के श्रेष्ठ पाँच ब्लॉग और दशक के श्रेष्ठ पाँच ब्लॉगर का भी सारस्वत सम्मान किया जाये। इसके लिए आपका वोट हमें दिशा देगा । हिचकिचाइए मत, केवल एक ब्लॉगर और केवल एक ब्लॉग को   चिन्हित करते हुये अपना वोट अवश्य दीजिये .....आपका वोट हमारे लिए महत्वपूर्ण है ।

84 comments:

  1. सबसे श्रेष्ठ तो आप हैं सर जी, जो हमारी सोच से एक कदम आगे बढ़कर मूर्तरूप दे जाते हैं ।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  2. वोट कर दिया हुजूर, शुभकामनाए आपको ।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  3. रश्मि जी,बहुत आसान है वोट करना ......
    उपरोक्त प्रपत्र मे दो प्रश्न है एक है दशक का ब्लॉगर ? और दूसरा है दशक का ब्लॉग?
    उसके नीचे विकल्प दिये गए हैं, हर नाम के पहले एक गोला है जिसमे आपको किलिक करना है ....यदि उस विकल्प से आप सहमत नहीं हैं तो अदर मे अपनी पसंद के किसी और ब्लॉग अथवा ब्लॉगर का नाम अंकित करते हुये सबसे नीचे सबमिट का बटन बना है उसपर किलिक कर दें ....हो गया आपका वोट पूर्ण ।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  4. ek saarthak prayaas blogging jagat ke liye . bdhaaiyaan
    bodhisatva kastooriya Agra

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  5. कर दिया दो वोट कर दिये अब निर्णय कसे लेंगे..?

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  6. हमने तो सबसे पहले कर दिया रविंद्र जी । सराहनीय प्रयास है

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  7. आपको सुगना फाऊंडेशन मेघलासिया,"राजपुरोहित समाज" आज का आगरा और एक्टिवे लाइफ, एक ब्लॉग सबका ब्लॉग परिवार की तरफ से मातृदिवस की हार्दिक शुभकामनाएं..
    आपका
    सवाई सिंह{आगरा }

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  8. वोट कर दिया।

    पर नाम और ब्लोग के नाम न देते तो अच्छा था। इससे लगता है कि प्रायोजक ने एक लिस्ट तैयार कर रखी है।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  9. उत्‍कृष्‍ट प्रयास के लिए शुभकामनाएं

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  10. @ नारी ... कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

    अद्यतन है यह जानकारी या ...?

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  11. नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
    २००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
    १५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  12. हमसब की परिकल्पना साकार हो..

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  13. हमने कल भी वोट डाला, आज जाँचने के लिए आए मगर हमारी टिप्पणी गायब!

    कोई नहीं दुबारा कर देते है टिप्पणी.

    शुभकामनाएं.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  14. आदरणीय रवीन्द्र जी…

    1) इन दस नामों और दस चिठ्ठों को "प्रमुखता" से चुनने का आधार क्या है? (पुराने, लोकप्रिय, सक्रिय, अधिक सब्स्क्राइबर वाले या यूं ही Random चुनाव है यह?)

    2) एक व्यक्ति कितने वोट दे सकता है?

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  15. आपकी सूची में किसी भी दलित ब्लॉगर का कोई ब्लॉग नहीं है।
    न्यूनतम एक दलित ब्लाग अवश्य सम्मिलित करें।
    इसके लिए मैं
    विनोद होसलेवाला
    का नाम एवम उनके ब्लाग का नाम सुझाता हूं।
    उनका ब्लाग नवभारत टाइम्स के अपना ब्लाग पर है।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  16. बहुत बढ़िया , मैंने भी अपना भोट गिरा दिया है .

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  17. भाई सत्य गौतम जी…
    तब तो एक ब्लॉग "मुस्लिम ब्लॉगर" का, एक ब्लॉग ईसाई ब्लॉगर का, एक ब्लॉग "बच्चों के नाम से चलने" वाले ब्लॉग का भी नामित होना चाहिए…:) :)… जय हो।
    ===========

    आदरणीय रवीन्द्र जी,
    मेरे पहले प्रश्न का उत्तर अभी तक नहीं आया, कि दस "खास" नामों का चुनाव किस आधार पर हुआ है? :) :) :)

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  18. सतीश सक्सेना और जीतेंद्र चौधरी के ब्लागिंग शुरू करने की तारीखें गलत हैं। सतीश जी के ब्लॉगिंग शुरु करने के पहले न जाने कित्ते लोग ब्लॉगिंग शुरु कर चुके थे जिनके नाम आपने यहां लिखे नहीं।

    सतीश सक्सेना जी ब्लाग जगत में 2008 में अवतरित हुये। पहली पोस्ट सतीश जी ने मई 2008 में लिखी। जीतेंद्र चौधरी ने जो समय आपने लिखा (2005) है उसके महीनों पहले ब्लागिंग शुरू की थी।

    दशक के इनाम बांटने वालों को कम से कम ये आंकड़े तो देख लेने चाहिये। :)

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  19. वाह!
    सुन्दर प्रयास. आपको बधाई और साधुवाद.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  20. आपके कथन के आलोक मे सुधार दिया है शुकुल जी ,और कोई आदेश ?

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  21. हमारा कोई आदेश नहीं है। सिर्फ़ अनुरोध है कि अगर हो सके तो दशक का ब्लॉगिंग के इनाम का काम थोड़ा जिम्मेदारी से करें। जिन ब्लागस के नाम आपने यहां दिये उनके ब्लाग शुरु करने की तारीखें आपको पता नहीं। किसी जगह मैंने देखा कि आपने लिखा कि जो लोग 2007 से ब्लाग शुरु किये उनके नाम आपने प्रस्तावित किये। जो नाम आपने प्रस्तावित किये उनमें से एक नाम इसके अनुरूप नहीं है। जीतेंद्र चौधरी के ब्लाग शुरु करने का साल गलत लिखा है। आशीष श्रीवास्तव का महीना।

    आपने नियम ऐसे बनाये कि किसी एक ब्लागर को कोई बाहर भी कर दे। फ़िर तो ये दशक का सबसे लोकप्रिय ब्लागर का सम्मान हुआ। उसमें सबको नामित करिये। जो सबसे ज्यादा पापुलर हो उसको इनाम थमा दीजिये। जिसके पास सबसे ज्यादा फ़ालोवर होंगे उसको इनाम मिल जायेगा।

    लोगों को भले न पता हो लेकिन आपने तो हिंदी ब्लागिंग का इतिहास लिखा है। आपको तो जीतेंद्र चौधरी के योगदान का पता होना चाहिये। करीब पांच-सात साल तक हिंदी ब्लागिंग के केन्द्र में रहे व्यक्ति को ऐसे बाहर कर देंगे कि लोगों ने बाहर कर दिया फ़िर तो हो चुका।

    देबाशीष का तो शायद आपको नाम ही नहीं याद आया होगा। हिंदी ब्लागिंग में देबाशीष ने अकेले जितना योगदान किया उतना शायद तमाम लोगों ने नहीं किया होगा।

    आपने जो नाम प्रस्तावित किये उनमें क्या पिछले साल वाले सर्वश्रेष्ठ ब्लागर शामिल नही हो सकते। ज्ञानदत्त जी शायद पिछले साल के आदर्श ब्लागर थे। पिछले साल का आदर्श ब्लागर जो सन 2007 से ब्लागिंग में आया है और जिसने सबसे नियमित ब्लागिंग की है वह आपके दशक के ब्लागर से बाहर हो गया।

    आप या कोई यह धारणा न पालें कि मैं यह सब इसलिये लिख रहा हूं कि मुझे दशक का ब्लागर का इनाम चाहिये। न मुझे इसकी अपेक्षा है न कभी इसको स्वीकार करूंगा। लेकिन चूंकि हिंदी ब्लागिंग से जुड़ा हूं इसलिये इस हड़बड़िया अंदाज तकलीफ़ होती है।

    अगर आपको कुछ सही में कुछ सुझाव चाहिये होते तो पूछते लेकिन आपको इनाम बांटने की हड़बड़ी है।

    वैसे देखना चाहते हैं तो इंडीब्लागीस के चुनाव के तरीके देखिये। 2003 से 2005 तक कैसे नामांकन हुए। कैसे ब्लाग के चयन हुये और फ़िर कैसे वोटिंग हुई। गड़बड़ी उसमें भी हो सकती है लेकिन लोगों के शिकायत के मौके कम रहेंगे।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  22. बधाई...इस अभिनव प्रयास के लिए. दशक का ब्लॉगर तो वही होगा जो सचमुच दस साल से काम कर रहा है. हम लोग तो ''जुम्मा-जुम्मा ब्लॉगर सम्मान' वाले है. जो मेहनत कर रहे हैं, उन्हें सम्मान मिलना ही चाहिए. मैंने भी कर दिया है वोट..

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  23. ब्लॉग की दुनिया को दलित-सवर्ण वाले खाँचे में मत बांटो भाई. वरना मुस्लिम ब्लागर, ब्रह्मण ब्लॉगर,बनिया ब्लॉगर, कुर्मी ब्लॉगर, गुप्ता ब्लॉगर, साहूं ब्लागर, नारी ब्लॉगर, किन्नर ब्लॉगर, 'गे' ब्लागर आदि-आदि श्रेणियां बन जायेंगी. ब्लॉगर मतलब केवल ब्लॉगर

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  24. मतदान कर दिया ।
    अब सिर्फ रिजल्ट बताना ।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  25. aapke link par aaye to ye mila ..

    ab vote kaise karen bhai ?

    This Connection is Untrusted





    You have asked Firefox to connect
    securely to docs.google.com, but we can't confirm that your connection is secure.
    Normally, when you try to connect securely,
    sites will present trusted identification to prove that you are
    going to the right place. However, this site's identity can't be verified.



    What Should I Do?

    If you usually connect to
    this site without problems, this error could mean that someone is
    trying to impersonate the site, and you shouldn't continue.






    Technical Details
    docs.google.com uses an invalid security certificate.

    The certificate will not be valid until 5/10/2012 8:16 AM. The current time is 4/16/2012 11:32 PM.

    (Error code: sec_error_expired_certificate)

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  26. अनूप शुक्ल ने ठीक ही लिखा है, कई महत्वपूर्ण नाम छूट गए हैं, उन्हें भी शामिल होना चाहिए, मेरा ब्लाग "हिन्दी साहित्य" २००४ से चल रहा है, इडिब्लागीस द्वारा २००५ में पुरस्कृत हुआ और सहारा समय ने मेरा और रवि रतलामी का एक लम्बा साक्षात्कार भी प्रसारित किया ..... लेकिन यहाँ आपने नाम भी नहीं दिया है..... अन्य और कई ब्लाग जो नियमित निकल रहे हैं वे भी यहाँ नहीं हैं..... आप उनके नाम यहाँ जरूर दें .... पुरस्कार भले ही किसी को दें.... लेकिन पुराने ब्लाग्स के यहाँ नाम जरूर अंकित करें।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  27. सवाल यह भी है कि रवींद्र प्रभात जैसे लोगों के लिए सम्मान कहाँ है? कौन करेगा..? किसी अखबार या बड़ी संस्था को यह काम करना चाहिए. वरना वही होगा' औरों को पिलाते रहते हैं और खुद प्यासे रह जाते हैं''.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  28. मेरा ये " हिन्दी साहित्य" ब्लाग ४ अक्टूबर २००६ से सक्रिय http://hindishitya.blogspot.in है जो अब www.hindisahitya.blogspot.com के रूप में निरन्तर चल रहा है।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  29. अनूप जी से सहमत,
    बहुत से महत्वपूर्ण नाम छूटे हैं जैसे अमित गुप्‍ता, ईस्वामी, बालेन्दु शर्मा ’दाधीच’, अनुनाद सिंह, राम चन्द्र मिश्र, उन्मुक्‍त और भी बहुत से।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  30. रविन्द्र जी हिंदी साहित्य की नेट विजिट करते हुए आपकी परिकल्पना पर पहुंचा. दशक के सर्वश्रेठ ब्लोगर और ब्लोग्स का चुनाव करने जा रहे हैं आप. हिंदी साहित्य के लिए तो यह नेक और प्रशंसनीय कार्य है. पर हिंदी के उन्नयन को समर्पित ब्लोगर्स से मन्तव्य/सुझाव लेते तो यह कदम हिंदी के लिए अधिक श्रेयस्कर होता. भले ही यह पुरस्कार देने में समय अधिक लगता.

    सत्य गौतम जी का यह सुझाव कि "सूची में दलित ब्लोगर" नही है. डाला जाय. पर मेरा कहना है कि क्या साहित्य को भी जातिगत खांचो में बांटने की कोशिश न की जाए.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  31. ब्लॉग पुरुस्कारों के बारे में मचे समर के बारे में जिज्ञासा से पढ़ रहा हूँ.कुछ प्रश्न मस्तिष्क में आ रहे हैं सोचा .ज़ाहिर कर ही दूं ,ब्लॉग पुरूस्कार का पैमाना क्या होना चाहिए यह चर्चा का विषय है
    कौन कितने साल से लिख रहा है,?इस से क्या फर्क पड़ता है अगर लिखना सार्थक या रोचक नहीं है.लेखन की गुणवत्ता का महत्त्व होना चाहिए.
    कितने विषयों पर लिखा है ,यह भी महत्वपूर्ण मानता हूँ.साथ ही टिप्पणियों को तो महत्त्व देना ही नहीं चाहिए,क्योंकि मैंने देखा है ,लोग बिना पढ़े ही टिप्पणी कर देते हैं,या खुद के ब्लॉग को पढने का निमंत्रण देने के लिए टिप्पणी करते हैं .
    या फिर तुम मुझे माला पहनाओ मैं तुम्हें माला पहानूंगा की तर्ज़ पर करी गयी टिप्पणियाँ ,वही चुनिन्दा ब्लोगर्स एक दूसरे के लेखन पर वाह वाह करते नहीं थकते.डरता हूँ,पुरूस्कार की होड़ में कहीं आपसी .छीटाकशी प्रारम्भ नहीं हो जाए.?
    मेरा विचार है पुरूस्कार अवश्य दीजिये ,पर किसी से पूछने की बजाए एक ५-७ प्रबुद्ध लोगों का पैनेल बनाया जाए और ब्लोगर्स का चयन करा जाए ,प्रारम्भिक चयन, जिस प्रकार पहले किया गया है वैसे ही करा जाए पर,वर्षों को या वरिष्ठता को महत्त्व नहीं दिया जाए.
    अंत में एक प्रश्न सबसे ,उन्हें कौन पुरूस्कार देगा जो हिंदी ब्लोगिंग के उत्थान के लिए इतनी मेहनत कर रहे हैं ?

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  32. भोट का का ज़रूरत है ...अरे हम हूँ न इस ब्रह्माण्ड का सबसे बड़ा चिट्ठाकार ...इहे फैसला सर्व मान्य है ...ई हमरा नहीं पूरा देस का जनता का कहना है। रवीन्दर जी काहें के लिये अतना गरमी में परसान हो रहे हैं ..खुदे बताईं रउआ हमनियों से बड़का कौनो चिट्ठाकार बा ? जाइये, घर में कूलर-वूलर का हवा खाइये तनामनी सांती मिलेगा।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  33. वोट दे दिया है!...आयोजन की सफलता के लिए शुभ-कामनाएं!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  34. प्रिय रवीन्द्र जी ..जो भी हो रहा है अच्छा हो रहा है कुछ तो होना ही चाहिए अब सब को संतुष्ट तो किया नहीं जा सकता जो विकल्प सामने हैं वोट तो वहीं देना ही है ...
    आभार आप का ..शुभ कामनाएं ..जय श्री राधे
    भ्रमर ५
    भ्रमर का दर्द और दर्पण

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  35. दशक के ब्लॉग तो बहुत होंगें. पर उनमें से कुछेक ब्लॉग ऐसे हैं, जिन्होंने अपनी अलग पहचान बनाई है. इनमें से तीन ब्लॉगों का जिक्र करना मैं जरुरी समझता हूँ- पाखी की दुनिया (अक्षिता), शब्द-शिखर (आकांक्षा यादव), डाकिया डाक लाया (कृष्ण कुमार यादव). इनमें से अक्षिता (पाखी) को तो परिकल्पना समूह ने पिछले साल 'वर्ष के सर्वश्रेष्ट नन्हे ब्लागर' की उपाधि से भी नवाजा. अक्षिता को ब्लागिंग के लिए प्रथम राजकीय सम्मान पाने का भी गौरव प्राप्त है. शब्द-शिखर (आकांक्षा यादव) एक ऐसा ब्लॉग है जिसमें बहुआयामी रचनाएँ पहने को मिलती हैं, और प्रिंट-मिडिया में भी इस ब्लॉग की खूब चर्चा हुई है. डाकिया डाक लाया, भारतीय डाक सेवा के अधिकारी कृष्ण कुमार यादव का ब्लॉग है. इस ब्लॉग में खतो-किताबत के अलावा डाक से जुड़े तमाम अनछुए पहलु शामिल हैं. इन तीनों ब्लॉगों को दशक के ब्लॉग में शामिल किया जाना चाहिए !!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  36. वाह!
    सुन्दर प्रयास. आपको बधाई

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  37. श्रेष्ठ तो किसी के ब्लॉग में कमेंट ही नहीं करते..उनको कौन वोट देगा!:)

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  38. वोट कर दिया है और साथ ही चटपटी टिप्पणियों का रसास्वादन भी किया। कोई भी पुरस्कार कभी टीका टिप्पणियों या आोचनाओं से अछूता नहीं रहा है। इसलिए जो कदम उठाया है, कृपया उसी पथ पर आगे बढ़ें। शुभकामनाएँ।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  39. जो जीतेगा मिठाई
    की फोटो भी दिखायेगा
    तो पक्का एक वोट
    पा ही जायेगा।

    वोट का डब्बे में
    उड़ कर गया वोट।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  40. वोट दे दिया. अब रिजल्ट की प्रतीक्षा है.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  41. Vote to de diya
    or safalta kh shubhkamna bhi.
    Cartoonist ka kya hoga?

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  42. Vote to kar diya hai, shubhkamnaon sahit. Magar mere khayal men blogjagat men puraskaron se bhi aage karne ko bahut kuchh hai jo ho nahin pa ra raha hai. Anoop jee mauj lene ke andaaz men bhi vaajib hi farmaya karte hain hamesha. Sameer jee ka 'adha' blog aur bhi hai jis ko 'seedhi ke neeche ki pitaajee ki chhadi' ki tarah vo hamesha bhoole rahte hain. haa haa. Aayojan safal ho isi dua ke saath Poona ki pre-monsoon fuharon ke sath.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  43. सुन्दर प्रयास शुभ कामनाएं !!!!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top