मैंने काफी करीब से देखा है गांधी को ...आपने ? मैंने काफी करीब से देखा है गांधी को ...आपने ?

आज शहीद दिवस है, सबसे पहले राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को नत मस्तक नमन करते हुए हम उस व्यक्ति का स्मरण...

अधिक पढ़ें »
9:23 pm

वसंतोत्सव में आज साढ़े आठ दशक पूर्व मनाई गयी होली का दृश्य वसंतोत्सव में आज साढ़े आठ दशक पूर्व मनाई गयी होली का दृश्य

साहित्य समय की सीमाओं में कभी नहीं बंधता .वह तो शाश्वत होता है.१९२४ की इस साहित्यिक रचना को आज के पर...

अधिक पढ़ें »
3:21 pm

वसंतोत्सव में आज गीतों के राजकुमार वसंतोत्सव में आज गीतों के राजकुमार

वसंतोत्सव के परिप्रेक्ष्य में प्रस्तुत आचार्य  जी पर केन्द्रित पोस्ट पर अपनी टिपण्णी देते हुए श्री अ...

अधिक पढ़ें »
6:58 pm

मैंने कभी महाप्राण निराला को नहीं देखा मगर एक व्यक्ति की आँखों में मैंने देखी  है निराला की छवि मैंने कभी महाप्राण निराला को नहीं देखा मगर एक व्यक्ति की आँखों में मैंने देखी है निराला की छवि

                                                                                यह छाया चित्र १२ फ...

अधिक पढ़ें »
2:18 pm

वसंत के प्रति शिशिर की उक्ति वसंत के प्रति शिशिर की उक्ति

बसंत को संस्कृत में बेहद सारगर्भित परंतु संक्षेप में परिभाषित किया गया है। यथा- " वसन्ति अग...

अधिक पढ़ें »
7:54 pm

परिकल्पना पर वसंतोत्सव ..बहेगी बसंत की मादकता के साथ-साथ फगुनाहट की बयार होली तक लगातार .... परिकल्पना पर वसंतोत्सव ..बहेगी बसंत की मादकता के साथ-साथ फगुनाहट की बयार होली तक लगातार ....

सखि, वसंत आया . भरा हर्ष वन में मन, नवोत्कर्ष  छाया . किसलय-वसना नव-वय-लतिका मिली मधुर प्रिय-उर...

अधिक पढ़ें »
6:17 pm

वह शब्दों से ऐसे खेलता है,जैसे कोई भोला सा बच्चा अपनी माँ से खेलता हो ... वह शब्दों से ऐसे खेलता है,जैसे कोई भोला सा बच्चा अपनी माँ से खेलता हो ...

                               कहा जाता है कि समुद्र में जितनी गहराई तक डूबेंगे मोती मिलने की संभाव...

अधिक पढ़ें »
5:46 pm

पुरस्कार श्रेष्ठता का पैमाना नहीं होता लेकिन श्रेष्ठता का सम्मान जरूर होता हैं। पुरस्कार श्रेष्ठता का पैमाना नहीं होता लेकिन श्रेष्ठता का सम्मान जरूर होता हैं।

बचपन में हमें जहाँ भी खिलौने दिखाई देते थे , हम अनायास ही ठिठक जाते थे । हमारे लिए दुनिया का मंहगा ...

अधिक पढ़ें »
10:51 am

जहाँ जाने से कद अपना छोटा लगे उस बुलंदी पे जाना नहीं चाहिए ..! जहाँ जाने से कद अपना छोटा लगे उस बुलंदी पे जाना नहीं चाहिए ..!

कल सुबह अचानक फोन की घंटी .....फोन उठाते ही दूसरी तरफ से आवाज़ आई - "पापा ! मैं रश्मि बोल रही ...

अधिक पढ़ें »
5:37 pm

हिंदी चिट्ठाकारी में नवीन संभावनाओं का नवीन प्रकाश कौन ? हिंदी चिट्ठाकारी में नवीन संभावनाओं का नवीन प्रकाश कौन ?

आज न वीन वर्ष का नवीन दिन , तो क्यों न एक ऐसे नवीन प्रकाश की बात की जाए जो वर्ष-२००९ के आखिरी चार...

अधिक पढ़ें »
4:07 pm
 
Top